Sunday, March 3, 2024
Home Business रिटायरमेंट के बाद पैसों की चिंता को कैसे दूर करते हैं NPS...

रिटायरमेंट के बाद पैसों की चिंता को कैसे दूर करते हैं NPS जैसे एन्युटी प्लान, क्या है इसमें निवेश के फायदे?


हाइलाइट्स

एन्युटी प्लान भी 2 तरह के होते हैं, इमिडिएट और डेफर्ड.
इसके अलावा एन्युटी प्लान की 3 श्रेणियां भी होती है.
कुछ प्लान्स में बीमाधारक की मौत के बाद भी एन्युटी मिलती है.

नई दिल्ली. रिटायरमेंट के बाद आपकी नियमित आय रुक जाती है. लेकिन आपको अपनी आर्थिक स्थिति दुरुस्त रखने के लिए पैसों की जरूरत तो होती है जो ताउम्र आपको मिलते हैं. ऐसे में आपके काम आते हैं एन्युटी प्लान. इसके जरिए रिटायर होने के बाद भी मासिक तौर पर आपको पैसे मिलते रहते हैं. एन्युटी प्लान में पहले आपको एकमुश्त राशि जमा करनी होती है और इसके बाद आपको हर महीने, तीन महीने या 6 महीने में नियमित आय मिलती रहती है. यह आय तब तक मिलती रहती है जब तक एन्युटी प्लान खरीदने वाला शख्स जीवित रहता है.

एन्युटी दो तरह की होती है. पहली है इमीडिएट एन्युटी और दूसरी है डेफर्ड एन्युटी. इमीडिएट में निवेश के तुरंत बाद पेमेंट मिलने लगती है. डेफर्ड में पहले पैसा एकत्रित किया जाता है और एक समय के बाद उसे वापस निवेशक को लौटाया जाता है. पॉलिसीधारक चाहे तो वह डेफर्ड एन्युटी को इमीडिएट एन्युटी में बदल सकते हैं. बता दें कि इसमें आपको कोई टैक्स बेनिफिट नहीं मिलता है. आप जिस टैक्स स्लैब में होंगे उसी के हिसाब से टैक्स लगेगा.

ये भी पढ़ें- अपने निवेश पर बचाना चाहते हैं टैक्स, तो इन स्कीम में लगाएं पैसा; होगा फायदा

बीमा कंपनियों से खरीदा जाता है प्लान
एन्युटी एक एक बीमा प्रोडक्ट है. इसे बीमा कंपनियों से खरीदा जाता है. इसमें आपके और बीमा कंपनी के बीच एक तरह का कॉन्‍ट्रैक्‍ट होता है. आप इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरह से खरीद सकते हैं. बता दें कि इमीडिएट और डेफर्ड एन्युटी के तहत 3 और टाइप होते हैं जिनके आधार बीमा कंपनी आपको एन्युटी की भरपाई करती है. ये तीन लाइफ, गारंटीड पीरियड और जॉइंट एन्युटी होते हैं. पहले टाइप में बीमाधारक की मौत तक एन्युटी मिलेगी. दूसरे टाइप में मृत्यु के बाद भी एक सुनिश्चित समय तक एन्युटी मिलेगी. वहीं, तीसरी टाइप की एन्युटी में जिसके साथ खाता जॉइंट है उसे एन्युटी मिलेगी.

एनपीएस
वैसे तो इसके नाम से ही जाहिर है कि ये पेंशन प्लान है, लेकिन इसमें शुरू से ही आपको पैसा नहीं मिलता है. आपको एनपीएस में लगातार निवेश करना होता है और रिटायरमेंट के बाद 40 फीसदी से हिस्से से एन्युटी खरीदनी होती हैं. यानी यह अंत में जाकर एन्युटी प्लान बनता है. इसमें डाला गया 60 फीसदी पैसा आपको एक साथ वापस मिल जाता है. इस तरह से आपको 2 तरह से फायदा मिलता है और आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत बनी रहती है. इसमें रिटर्न मार्केट आधारित होता है इसलिए यह अधिक भी होता है लेकिन इसमें कुछ जोखिम भी रहता है. हालांकि, आप जब चाहें इसमें अपना फंड मैनेजर बदल सकते हैं.

Tags: Business news, Investment tips, NPS, Pension fund, Pension scheme



Source link

RELATED ARTICLES

My father died without a will. His wife moved — and I’m paying the mortgage. 

My father died in 2021 with no will. He shared a home with his second wife. The house is financed under both their...

Opinion: U.S.-China tensions over Taiwan threaten to derail Nvidia and other tech giants

The concentration of advanced semiconductor manufacturing in Taiwan has raised fears in the United States about the vulnerability of this supply chain should...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

My father died without a will. His wife moved — and I’m paying the mortgage. 

My father died in 2021 with no will. He shared a home with his second wife. The house is financed under both their...

Opinion: U.S.-China tensions over Taiwan threaten to derail Nvidia and other tech giants

The concentration of advanced semiconductor manufacturing in Taiwan has raised fears in the United States about the vulnerability of this supply chain should...