Bad Cibil Score के चलते नहीं हो रही कार फाइनेंस, छुपे हैं कई पेंच, जानें कैसे मिलेगा Car Loan


हाइलाइट्स

CIBIL Score खराब होने पर लोन होना मुश्किल होता है.
हालांकि कुछ एनबीएफसी कम स्कोर पर भी कार लोन देते हैं.
कंज्यूमर लोन लेकर सिबिल स्कोर को बढ़ाया जा सकता है.

नई दिल्ली. पिछले कुछ सालों में सिबिल स्कोर यानि आपकी क्रेडिट रेंकिंग को लेकर बैंकों ने सख्ती बढ़ा दी है. वहीं कोरोना काल के दौरान बड़ी संख्या में लोन की किश्तें समय पर नहीं भर पाने या अन्य कारणों के चलते लोगों का ये स्कोर कुछ हद तक खराब भी हुआ है. इस कारण से कई बार लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट हो जाती है. इसमें कार लोन भी शामिल है. हालांकि कार लोन एक सिक्योर्ड लोन कहलाता है और ये कम सिबिल स्कोर में भी दिया जाता है.

सिक्योर्ड लोन होने के बाद भी बैंक आखिर क्यों नहीं कम स्कोर पर भी कार लोन पास करते हैं इसके पीछे भी दो बड़े कारण हैं. और कम स्कोर होने के बाद भी आप कैसे लोन ले सकते हैं इसको जानने के लिए आपके लिए है ये खास रिपोर्ट…

आखिर बैंक क्यों रिजेक्ट करते हैं लोन एप्लीकेशन
कम स्कोर या इंकम स्टेबिलिटी न होने पर बैंक कार लोन की एप्लीकेशन को रिजेक्ट कर देते हैं. हालांकि कार लोन को भी सिक्योर्ड लोन कैटेगरी में रखा जाता है क्योंकि इस लोन की रिकवरी असेट के तौर पर की जा सकती है लेकिन बैंक इसे पूरी तरह से सिक्योर्ड लोन नहीं मानते हैं. इसके पीछे दो बड़े कारण हैं.

  • मूवेबल असेटः कार मूवेबल असेट में आती है और लोन डिफॉल्ट के केस में मूवेबल असेट की रिकवरी मुश्किल हो जाती है.
  • डेप्रिसिऐशनः कार एक ऐसा असेट है जिसका हर साल डेप्रिसिऐशन होता है. ऐसे में असेट की वैल्यू टाइम के साथ कम होती जाती है. उदाहरण के लिए आपने 12 लाख की कार पर्चेस की है और उस पर 10 लाख का लोन 5 साल के लिए लिया है. ऐसे में एक साल बाद कार की वैल्यू 11.80 लाख रुपये ही रह जाएगी, लेकिन लोन वैल्यू 10 लाख से ज्यादा ही रहेगी क्योंकि बैंक इंट्रेसट पहले ही वसूल करते हैं. ऐसे में यदि बैंक असेट को सिक्योर भी करते हैं तो बेचने पर उन्हें 10 लाख की वैल्यू भी नहीं मिलेगी और उन्हें घाटा होगा.

… तो कैसे मिलेगा लोन

  • लोन लेने का सबसे अच्छा और आसान तरीका है कि पहले कोई कंज्यूमर लोन जैसे टीवी, मोबाइल, फ्रिज आदि खरीद कर उस पर लोन लिया जाए और उसकी 6 किश्तें सही समय पर चुका कर ‌सिबिल स्कोर को सही किया जाए.
  • इसके अलावा आप एनबीएफसी से भी लोन के लिए संपर्क कर सकते हैं ये कम सिबिल स्कोर पर भी लोन देते हैं लेकिन इनका इंट्रेस्ट रेट ज्यादा होता है.
  • वहीं आप ज्यादा डाउनपेमेंट कर लोन अमाउंट को कम कर सकते हैं. ऐसे में बैंक आपकी पेइंग कैपेसिटी को कैलकुलेट कर लोन दे देते हैं.
  • सैलेरी बेस्ड अकाउंट पर कम सिबिल स्कोर में भी लोन मिल जाता है क्योंकि बैंक को सैलेरी बेस्ड सिक्योरिटी मिलती है लेकिन इसमें बैंक ज्यादा इंट्रेस्ट रेट लेते हैं.

ये भी पढ़ेंः Used Cars का बूम कर रहा है बाजार, Youth है सबसे बड़ा खरीदार

कितना हो सिबिल स्कोर
आम तौर पर बैंक 700 के ऊपर का सिबिल स्कोर काफी अच्छा मानते हैं और इस पर आसानी से कार लोन मिल जाता है. वहीं एनबीएफसी 550 से ऊपर के स्कोर पर भी आपको कार लोन दे सकते हैं लेकिन ये उनकी टर्म और कंडीशन पर डिपेंड करता है.

Tags: Auto News, Car, Car Bike News, Car loan



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *