EPFO : कैसे कैलकुलेट होता है EPF खाते पर ब्‍याज, जब चाहे पता कर सकते हैं अपना बैलेंस


हाइलाइट्स

ईपीएफ में कर्मचारी और नियोक्‍ता, दोनों ही योगदान करते हैं.
20 या 20 से ज्‍यादा कर्मचारी रखने पर नियोक्‍ता को कर्मचारियों के ईपीएफ खाते खुलवाने होते हैं.
ईपीएफ में कर्मचारी 12 फीसदी से ज्‍यादा भी निवेश कर सकता है.

नई दिल्‍ली. देश में लाखों कर्मचारी, कर्मचारी भविष्‍य निधि (EPF) में निवेश करते हैं. कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (EPFO) द्वारा चलाए जा रहे ईपीएफ स्‍कीम में नियोक्‍ता (Employer) और कर्मचारी, दोनों को ही योगदान देना होता है. मौजूदा नियमों के मुताबिक जिस नियोक्‍ता के पास 20 या इससे अधिक कर्मचारी हैं और जिनका वेतन 15,000 रुपये या इससे कम है, उसके लिए अपने कर्मचारियों का ईपीएफ अकाउंट खुलवाना जरूरी है.

वर्ष 2021-22 में सरकार ईपीएफ अकाउंट पर 8.1 फीसदी की दर से ब्‍याज (EPF Interest Rate) दे रही है. कर्मचारी को ईपीएफ अकाउंट और ईपीएस में अपने मूल वेतन और डीए को मिलाकर बनी सैलरी का 12 फीसदी योगदान देना होता है. इतना ही योगदान नियोक्‍ता को भी देना होता है. नियोक्‍ता के योगदान में से 8.33 फीसदी ईपीएस में जाता है. ईपीएफ में नियोक्‍ता का योगदान केवल 3.67 फीसदी ही होता है. इस तरह दोनों के योगदान की राशि को जोड़कर आप यह पता लगा सकते हैं कि साल में ईपीएफ अकाउंट में कितना पैसा जमा होगा.

ये भी पढ़ें-   PF Account : अभी तक क्‍यों नहीं आया पीएफ पर ब्‍याज का पैसा, एक्‍सपर्ट से समझें देरी से क्‍या होगा नुकसान?

कैसे जानें अपना बैलेंस
ईपीएफ खाते का बैलेंस चेक करने के लिए सब्‍सक्राइबर्स को कहीं जाने की जरूरत नहीं है. ईपीएफओ चार तरीकों से पीएफ बैलेंस जानने की सुविधा मुहैया कराता है. पीएफ अकाउंट होल्‍डर रजिस्‍टर्ड मोबाइल नंबर से मिस्‍ड कॉल करके या एसएमएस से बैलेंस की जानकारी ले सकता है. यही नहीं वह ऑनलाइन उमंग ऐप की सहायता से और ईपीएफओ की वेबसाइट पर लॉग इन करके यह जान सकता है कि उसके पीएफ अकाउंट में कितना पैसा पड़ा है.

ये भी पढ़ें-   EPFO : PF अकाउंट से जुड़ा मोबाइल नंबर या बैंक खाता बदलने को कहीं जाने की नहीं जरूरत, घर बैठे चेंज करने का जानिए तरीका

इस तरह होती है ब्याज की गणना

  • मूल वेतन + महंगाई भत्ता (DA) = 15 हजार रुपये
  • ईपीएफ में कर्मचारी का योगदान = 15 हजार रुपये का 12% = 1800 रुपये
  • नियोक्‍ता (Employers) का ईपीएफ में योगदान = 15 हजार रुपये का 3.67 फीसदी = 550.5
  • नियोक्‍ता का ईपीएस में योगदान = 15 हजार रुपये का 8.33 फीसदी= 1249.5 रुपये
  • ईपीएफ खाते में कुल योगदान= 1800+550.5= 2350.5 रुपये
  • हर महीने होने ईपीएफ खाते में योगदान= 1800+550.5 =2350.5 रुपये
  • यह राशि हर महीने ईपीएफ खाते में जमा होगी और इस पर निर्धारित ब्याज दर खाते में क्रेडिट होगा.
  • 8.1 फीसदी की सालाना ब्याज दर के मुताबिक हर महीने 0.605 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा लेकिन यह वित्त वर्ष के आखिरी दिन क्रेडिट होगा.
  • अब मान लेते हैं कि आपने अप्रैल 2022 में ऑफिस जॉइन किया है तो अप्रैल में जो राशि ईपीएफ खाते में जमा हुई है, उस पर ब्याज नहीं मिलेगा.
  • मई 2022 में आपके खाते में 4701 रुपये (2350.5+2350.5) होंगे और उस पर 4701*0.60%= 31.73 रुपये ब्याज मिलेगा. इसी तरह अन्य महीने के ब्याज की गणना कर सकते हैं.

Tags: Business news in hindi, EPF, Epfo, Money Making Tips, Personal finance, PF account, PF balance



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *