Sunday, March 3, 2024
Home Business Small Savings Scheme: निवेश कम लेकिन ब्याज में होगा दम, इन सरकारी...

Small Savings Scheme: निवेश कम लेकिन ब्याज में होगा दम, इन सरकारी योजनाओं पर बढ़ी ब्याज दरें आज से लागू


हाइलाइट्स

अब स्मॉल सेविंग्स स्कीम पर अधिकतम 8 फीसदी का ब्याज मिलेगा.
सरकार ने कुल 7 योजनाओं पर ब्याज बढ़ाने की घोषणा की थी.
वहीं, 1 बचत योजना की मैच्योरिटी अवधि को घटा दिया है.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने नए साल पर छोटी बचत योजनाओं (Small Saving Schemes) में पैसा लगाने वालों को तोहफा दिया है. पिछले महीने के अंत में सरकार ने कुल 7 बचत योजनाओं पर ब्याज बढ़ाने की घोषणा की थी. वहीं, एक स्कीम की मैच्योरिटी अवधि को घटा दिया गया है. इन योजनाओं की ब्याज दरों में 1.1 फीसदी तक की वृद्धि की गई है. इसमें डाकघर सावधि जमा (Post Office Time Deposit), एनएससी (NSC) और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (Senior Citizen Saving Scheme) शामिल है. इनके अलावा मंथली इनकम उकाउंट स्कीम पर भी ब्याज बढ़ाया गया है.

किसान विकास पत्र (KVS) की ब्याज दर तो नहीं बढ़ी है लेकिन उसकी मैच्योरिटी अवधि को 123 महीने से घटाकर 120 महीने कर दिया गया है. अब इन छोटी बचत योजनाओं पर खाताधारकों को अधिकतम 8 फीसदी तक का ब्याज मिलेगा. ये ब्याज दरें 31 मार्च 2023 तक के लिए लागू हैं. इसके बाद एक बार फिर सरकार द्वारा इनकी समीक्षा की जाएगी.

ये भी पढ़ें- इस स्कीम में 4 लाख के मिलेंगे 8 लाख, मात्र 120 महीने में पैसा हो जाएगा डबल

सरकार द्वारा बढ़ाए जाने के बाद नई ब्याज दरें कुछ इस प्रकार हैं
1 साल का टाइम डिपॉजिट- पुरानी ब्याज दर 5.5 फीसदी, नई ब्याज दर 6.6 फीसदी
2 साल का टाइम डिपॉजिट- पुरानी दर 5.7 फीसदी, नई दर 6.8 फीसदी
3 साल का टाइम डिपॉजिट- पुरानी दर 5.8 फीसदी, नई दर 6.9 फीसदी
5 साल का टाइम डिपॉजिट- पुरानी दर 6.7 फीसदी, नई दर 7 फीसदी
सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम- पुरानी दर 7.6 फीसदी, नई दर 8 फीसदी
मंथली इनकम अकाउंट स्कीम- पुरानी दर 6.7 फीसदी, नई दर 7.1 फीसदी
नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट- पुरानी दर 6.8 फीसदी, नई दर 7 फीसदी

इन योजनाओं में कोई बदलाव नहीं
सरकार ने 2 काफी पॉपुलर स्कीम पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) और सुकन्या समृद्धि योजना की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. अभी पीपीएफ पर खाताधारकों को 7.1 फीसदी और सुकन्या समृद्धि पर 7.6 फीसदी का ब्याज मिलता है जो आगे भी जारी रहेगा. 5 साल की रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम पर सरकार ने ब्याज नहीं बढ़ाया है और इसे 5.8 फीसदी ही रखा है.

लोगों को था इंतजार
आरबीआई द्वारा लगातार रेपो रेट में वृद्धि किए जाने और बैंकों के एफडी पर ब्याज बढ़ाए जाने के बाद लोग काफी समय से इंतजार कर रहे थे कि सरकार अपनी बचत योजनाओं पर भी ब्याज दरों में इजाफा करे. गौरतलब है कि पिछले साल आरबीआई ने 5 बार रेपो रेट में वृद्धि करते हुए उसे 6.25 फीसदी तक पहुंचा दिया था. केंद्रीय बैंक ऐसा महंगाई को काबू में करने के लिए कर रहा था जिसका असर नवंबर के खुदरा महंगाई आंकड़ों में नजर भी आया.

Tags: Earn money, Investment and return, Kisan Vikas Patra, NPS, PPF, Small Saving Schemes, Sukanya samriddhi scheme



Source link

RELATED ARTICLES

My father died without a will. His wife moved — and I’m paying the mortgage. 

My father died in 2021 with no will. He shared a home with his second wife. The house is financed under both their...

Opinion: U.S.-China tensions over Taiwan threaten to derail Nvidia and other tech giants

The concentration of advanced semiconductor manufacturing in Taiwan has raised fears in the United States about the vulnerability of this supply chain should...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

My father died without a will. His wife moved — and I’m paying the mortgage. 

My father died in 2021 with no will. He shared a home with his second wife. The house is financed under both their...

Opinion: U.S.-China tensions over Taiwan threaten to derail Nvidia and other tech giants

The concentration of advanced semiconductor manufacturing in Taiwan has raised fears in the United States about the vulnerability of this supply chain should...